शेयर बाजार में आई तेज़ी, निवेश करने से पहले रखें पूरी जानकारी

0
10

बीते हफ्ते शेयर बाजार में आई तेज़ी| एक्सपर्ट्स की माने तो तेज़ी के वक़्त शेयर मार्किट में निवेश करने से पहले अच्छे से जानकारी लेनी चाहिए। जो लोग जल्दबाज़ी में मार्किट में निवेश करते हैं और बिना रिसर्च के मार्किट में इन्वेस्ट करते हैं, उन्हें ख़मयाज़ा भुगतना पढ़ता है। हालांकि भारत के अधिकतर लोग शेयर मार्किट में निवेश नहीं करते। मगर जो लोग इसमें इन्वेस्ट करने की बारीकियां जानते हैं उनके लिए यह काफी फायदेमंद साबित होती है।

तेजी आने से निफ़्टी पर असर।

भारतीय इकॉनमी दुनिया की सबसे तेज़ बढ़ती इकॉनमी में से एक है। बढ़ती इकॉनमी का सीधा असर शेयर बाजार पर देखने को मिला। भारतीय शेयर बाजार में निफ़्टी ने इन्वेस्टर्स को गजब के रिटर्न्स दिए। केवल अगस्त के महीने में निफ़्टी 16000 के आंकड़े से 1000 पॉइंट ऊपर बढ़ा और 31 अगस्त को 17000 पर पोहंच गया। अगले 1.5 महीने में निफ़्टी 1000 अंक और बढ़ गया और 18000 के आंकड़े से ऊपर निकल गया। यह सब शेयर बाजार में आई तेज़ी के कारण है

सिप और म्यूच्यूअल फण्ड इन्वेस्टमेंट ने तोडा रिकॉर्ड

देश में इन्वेस्मेंट की तरफ आकर्षित हुए लोगो ने म्युचअल फण्ड तथा सिप में खुल कर निवेश किया। सिस्टेमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान में लोग एक निश्चित अंतराल में निवेश कर सकते हैं। सिप में कम जोखिम और अच्छे रिटर्न्स के कारण लोगो ने इसमें 10000 करोड़ से भी ऊपर इन्वेस्ट किया। ऐसा पहली बार देखने को मिला कि लोगो का पूंजी बाज़ार में भरोसा बढ़ गया है। जिसके कारण अधिकतम लोग इसमें इन्वेस्ट करने में रूचि दिखा रहे हैं।

किस किस शेयर में आई तेज़ी

मुहूर्त ट्रेडिंग पर बाजार में तेजी आई। जिसमे निफ़्टी के साथ साथ सेंसेक्स भी 300 अंक बढ़ा। इस मौके पर कुछ शेयर्स ने अपने इन्वेस्टर्स को अचे रिटर्न्स दिए। शेयर्स जैसे बजाज ऑटो, नेस्ले इंडिया, सन फार्मा, एलएंडटी, कोटक बैंक में तेज़ी देखने को मिली। इसी समय कुछ शेयर मार्किट में गिरते हुए भी दिखाई दिए।

इस बातो का रखें खास ख्याल

एक दम से करे निवेश

शेयर मार्किट में स्टॉक हर एक दिन मुनाफा या नुक्सान देता है। इन्वेस्टर कभी अपनी पूरी पूंजी एक साथ न खर्चे और कुछ भाग ही मार्किट में इन्वेस्ट करे।  ऐसा करने से इन्वेस्टर्स अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं।

अच्छा पोर्टफोलियो है शेयर मार्किट का राज़

अलग अलग कंपनियों में इन्वेस्ट करने से इन्वेस्टर्स अपने नुक्सान को कम कर सकते हैं। डाइवर्सिफाइड पोर्टफोलियो जोखिम को बांटने का काम करता है।

यह भी पढ़ें

Ind vs Eng: अहमदाबाद के नरेंद्र मोदी स्टेडियम में होगा आज का निर्णायक T20 सीरीज का फाइनल मैच

कर्नाटक में कन्नड़, हिंदी समेत अन्य भाषाओ को सम्मान दर्जा दे।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here